Thu07202017

Last updateFri, 23 Jun 2017 9am

Whose Agenda Is It Anyway?

Whose Agenda Is It Anyway

It’s not the protection of fundamental rights but a strong anti-Modi agenda that is the real glue binding leaders of all other political parties together.

The more the ‘secular’ parties lose their vote base, the more they will align and stick to issues that can malign the centre.

One year after the controversy at Jawaharlal Nehru University (JNU), which also broke out over freedom of expression, there are intolerance cries being heard everywhere now. When I say 'everywhere' it means the limited world of media channels, newspaper headlines and the social media. People in the rest of the country are by and large busy with their day to day struggles of life. Nobody hears these intolerance cries on any channels when political activists are murdered with chilling regularity in Kerala or when incidents of gross violation of rights are reported from West Bengal (which tops the chart for highest political murders). As for rights of women in Bihar and Uttar Pradesh, they do not count anyway because those are the badlands of the cow belt and supposed to be 'like that only'.

So exactly on the first anniversary of the JNU controversy, a Delhi University college decides to have a seminar where a person on bail under strict conditions is invited to share his thoughts. Since I was educated in a small town degree college of the 'cow' belt, I am perhaps ill-equipped to understand what message teachers of a reputed university want to convey by inviting such speakers? And what kind of pride these teachers feel in supporting students crying slogans against the Motherland?

Going by news reports, it appears that the invite to Umar Khalid was withdrawn, there was much anti-India sloganeering, and protests, counter protests and clashes ensued. If the police did not do enough to control the situation, or worse, mishandled it, they must take responsibility for it. In fact, Delhi Police has acted against the erring policeman. But the issue that has taken centre-stage now is the video of a young college student Gurmehar Kaur who was not even part of the protests for expressing her views against war and holding placards against the Akhil Bharatiya Vidyarthi Parishad (ABVP).

Read more...

Why Kashmir’s Mainstream Parties And Separatists Are Uniting Against General Bipin Rawat

Why Kashmirs Mainstream Parties

By taking a stand in support of stone-pelters, the “mainstream Kashmiri leaders have only added fuel to the fire and further aggravated the situation”.

One can only hope that good sense would finally prevail and the people of Kashmir would stay away from the encounter sites.

This would help the Army and paramilitary forces in conducting anti-insurgency operation in an effective manner and restore peace and normality.

The 15 February warning to stone-pelters in Kashmir that those who would attack security forces during anti-insurgency operations would be considered terrorists and dealt with accordingly, has not gone down too well with both the separatists and the so-called mainstream political parties.

On the other hand, Army Chief Bipin Rawat’s warning got fullest support from the Union Home Ministry and the Director General of Police (DGP), Jammu and Kashmir (J&K). Minister of State for Home Kiren Rijiju defended the Army Chief and said there should be action against stone-pelters as “national interest is supreme”. The J&K DGP warned that stone-pelters would be “destroyed if they refused to stay away from the encounter sites. It happened for the first time after years that the Army Chief, the Union Home Ministry and the J&K DGP spoke in one voice and it was quite understandable as the provocation was very, very grave.

Read more...

Bollywood, Maoists and Lutyens Media: An unholy threesome

We woke up to two pieces of news this Saturday. The first: public-outcry on Sanjay Leela Bhansali for misrepresenting Rajput history. The second: of a 1,000 year old Ganesha sculpture in Chattisgarh being destroyed by Naxals.

Film director Anurag Kashyap, who isn’t really known for his investigative-abilities as much as he is for his imaginative fiction-writing; magically root-caused the Sanjay Leela Bhansali issue to “Hindu Terror”. The Naxals’ destruction of the Dholkal Ganesha though, was an “act of frustration that comes from exclusion”.

Read more...

तुम ‘लूट’ कहो तो कोई बात नहीं, हम ‘रेनकोट’ कहें तो मुश्किल हुई!

तम लट कह त कई बत नह

कांग्रस एक अलोकतांत्रिक पार्टी है, यह तो इसके वंशवादी चरित्र से स्पष्ट ही है, यह आराजक और अहंकारी है- दिनों दिन यह और स्पष्ट होता जा रहा है! जिस तरह से मंगलवार को लोकसभा में प्रधानमंत्री के भाषण पर कांग्रेसियोंने हंगाम किया और जिस तरह से बुधवार को राज्यसभा में प्रधानमंत्री के भाषण के बीच से सभी कांग्रेसी पलायन कर गए, वह यह साबित करता है कि कांग्रेस केवल बोलना जानती है, सुनना उसे पसंद नहीं! और जो नहीं सुनता, वह अलोकतांत्रिक तो है ही, अहंकारी और अराजक भी है।

Read more...

UP Phase 1: BJP Raced Ahead, SP-Congress And BSP In Close Fight For Second Position

UP Phase 1 BJP Raced Ahead

73 seats went to the polls on Feb 11, 2017 and the BJP is expected to win around 32 to 36 seats.

The first phase of the Assembly polls in Uttar Pradesh (UP) concluded yesterday (11th February). 73 seats, most of them in communally volatile western region of the state, polled in this phase. The Election Commission reported a turnout of 64.2 per cent.

Riding on the back of its spectacular performance in this region during the 2014 Lok Sabha polls, Bharatiya Janata Party (BJP) was hoping to reap a rich harvest of seats in this phase. Based on ground assessment, it is clear that the party, though unable to replicate the scale of its 2014 victory, has done reasonably well in this phase. However its ascendancy could be marred by possibility of some of its key candidates biting the dust . Many of them were involved in bitterly fought contests in their constituencies.

Read more...

मीडिया की अंदरूनी लड़ाई सड़क पर उतरी, भाजपा के पक्ष में सर्वे छापते ही दैनिक जागरण के खिलाफ सभी अंग्रेजी व वाम मीडिया ने खोला मोर्चा!

मडय क अदरन लडई सडक पर उतर

उत्तरप्रदेश के पहले चरण में 73 सीटों पर हुए चुनाव के बाद देश के सबसे बड़े हिंदी अखबार दैनिक जागरण ने मतदाताओं से प्रश्न पूछते हुए उनका मत छाप दिया, जिसके कारण आज चुनाव आयोग ने दैनिक जागरण के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराया है। दैनिक जागरण ने मतदाताओं से बातचीत के आधार पर 73 में से दो तिहाई सीट भाजपा के पक्ष में दिखाते हुए उसे सबसे आगे दिखाया है। दूसरे नंबर पर बसपा और तीसरे नंबर पर सपा को दिखाया गया है। चुनाव आयोग ने इस पर कड़ा संज्ञान लिया है और दैनिक जागरण के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है। लेकिन जिस तरह से अंग्रेजी और वामपंथी मीडिया दैनिक जागरण के खिलाफ उतर आई है, उससे साफ-साफ मीडिया दो फाड़ दिख रही है।

मैंने करीब सात साल दैनिक जागरण में काम किया है। मुझे याद है कि वहां का अलिखित विधान था कि किसी मीडिया हाउस के खिलाफ कोई खबर न छापी जाए, किसी मीडिया हाउस का नाम न छापा जाए और किसी मीडिया पर हमला करते हुए कोई खबर नहीं लिखी जाए। एक बार मेरी नौकरी जाते-जाते बची। मैंने आजतक के खिलाफ बिना आजतक का नाम लिए खबर छाप दिया था। आजतक को एक्सपोज किया था। फिर क्या था, आजतक के संपादक ने जागरण के संपादक को फोन किया और मेरी नौकरी पर बन आई। यह तो तब के मुख्य महाप्रबंधक निशिकांत ठाकुर जी थे, जिसके कारण मेरी नौकरी बच गई थी।

Read more...

अलाउद्दीन खिलजी के लौंडेबाजी पर फिल्म बनाओ न भंसाली! सारी क्रियेटिविटी का पता चल जाएगा!

अलउददन खलज क लडबज पर फलम बनओ

यह संजय भंसाली क्या पिटा की सारे तथाकथित सेक्युलर, बुद्धजीवी, कलाकार और फ़िल्मी जमात ‘सृजनात्मकता का अधिकार’, सिनेमेटिक क्रिएटिविटी का झंडा बुलन्द किये कूद पड़े है। उन्हें इतिहासिक चरित्रों को, तोड़ मोड़ कर गाने अफसानो से थाली पर सजा कर जनता को पेश करने की आज़ादी चाहिए है। उन्हें हिंदुत्व के प्रतीकों से छेड़खानी करने का अधिकार चाहिए है। इन भारत की संस्कृति और माटी से दूर, विक्षिप्त लोगो में यह घृष्टता करने की सर्जनात्मकता कहाँ से आ गयी है? ऐसा पिछले दशको में क्या हुआ है की आज वह निर्लज्जता कर रहे है और उनके समर्थन में राजनैतिक वर्ग से लेकर मिडिया उनके समर्थन कर रही है? इस सबको समझने से पहले हमें भारतीय बम्बईया सनीमा के पीछे जाना होगा।

एक जमाने में जब भारत में सनीमा नही था तब कहानियों और किस्सों पर नौटंकियां बनती थी। जिसमे ज्यादातर या तो धार्मिक होते थे या फिर इतिहास के चरित्रों को कहानियों में फेंट कर दिखाया जाता था। इन इतिहासिक किस्सों का यथार्थ से कोई भी मतलब नही होता था वह बस भारत की गुलाम जनता को जीवन की कड़वी हकीकत से सपनो की दुनिया में जीने का मौका देता था। अब क्योंकि हिन्दू गुलाम था इसलिए पश्चिम से आये आताताइयों और मुगलो के चरित्रों को नौटंकी में एक अलग रूप में गाने बजाने के साथ दिखाये जाते थे।

यह लैला मजनू, शीरी फरहाद सलीम अनारकली इत्यादि के किस्से सब कोरी कल्पना थी जो हमारी संस्कृति के हिस्से भी नही थे लेकिन उनको नौटंकी की माध्यम से पीढ़ी दर पीढ़ी, हमारा बनाया गया है।उसके बाद जब मुम्बई में पारसी थिएटर का उदय हुआ तब इनमे इतिहासिक भारतीय चरित्रों की शूरवीरता को विशेष स्थान मिला क्योंकि वह भारत की स्वतंत्रता के लिए संघर्ष का काल था।

1947 में जब भारत आज़ाद हुआ तो भारत के हिंदुत्व वाले मूल चरित्र में बदलाव लाने के लिए वामपंथियों ने इसमें घुस पैठ किया और एक अलग मंच बनाया। दरअसल जो हम आज देख रहे है उसकी जड़ स्वतन्त्रता के बाद से ही पड़ गयी थी। मुम्बई के सिनेमा और थिएटर में वामपंथी जमात ने, बुद्धिजीविता के नाम पर पहले ही अपना कब्ज़ा जमा लिया था। उन्होंने शुरू में इसे वर्ग संघर्ष और आम गरीब आदमी की चाशनी में परोसा जिसकी परणिति 70 के दशक में समांतर फिल्मो के रूप में हुयी थी। 

Read more...